तुलसी से सफेद दाग का इलाज कैसे करें

तुलसी से सफेद दाग का इलाज: सफेद दाग त्वचा की एक आम समस्या है जिससे बहुत से लोग पीड़ित हैं। इसमें शरीर के किसी भी हिस्से में त्वचा में सफेद रंग का छोटा सा दाग हो जाता है जो धीरे-धीरे बढ़ता रहता है। बड़े सफेद रंग के दाग देखने में गंदे और अजीब दिखते हैं। सफेद दाग देखकर लोग मुँह बनाते हैं, घृणा करते हैं।

तुलसी से सफेद दाग का इलाज

वास्तव में यह एक प्रकार का चर्म रोग है और कुछ भी नहीं। यह संक्रमित या छुआछूत वाला रोग नहीं है। सफेद दाग छूने से नहीं फैलता इसलिए सफेद दाग के रोगियों से भेदभाव नहीं करना चाहिए।

सफेद दाग होने के कारण:

भारत में सफेद दाग की समस्या तेजी से फैल रही है। मेडिकल भाषा में Vitiligo or Leucoderma कहा जाता है। वैसे तो त्वचा का कोई रंग नहीं होता है।त्वचा की सतह के नीचे मेलेनिन जो रंग देती है, इनकी कोशिकाएं जिन्हें मेलानोसाइट्स कहते हैं नष्ट होने लगती है। तब सफेद दाग के धब्बे त्वचा पर दिखाई देते हैं। यह कोशिकाएं क्यों नष्ट होती है इसका कोई सटीक कारण अभी तक सामने नहीं आया।

थायराइड अनुवांशिक(Hereditary)कारण और सनबर्न(Sunburn) से भी सफेद दाग हो सकते हैं। त्वचा का रंग बदलते ही सफेद दाग दिखाई देने लग जाते हैं।

सफेद दाग से छुटकारा पाने के लिए तुलसी का प्रयोग:

तुलसी के बहुत फायदे हैं। कई रोगों में तुलसी रामबाण औषधि की तरह काम करती है। तुलसी के पत्तों में एंटी एजिंग और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं। जुकाम, सर्दी खांसी, श्वास संबंधित बीमारी, बुखार, फेफड़ों की बीमारी, मुंह के रोगों आदि में हम तुलसी का प्रयोग करते हैं। तुलसी के ये गुण सफेद दाग से निपटने के लिए महत्वपूर्ण है।

  1. तुलसी के पत्तों का रस और नींबू का रस एक साथ मिलाकर सफेद दाग वाले हिस्से पर लगाने से त्वचा पर मेलेनिन का उत्पादन बढ़ेगा और धीरे धीरे रंग एक समान होता जाएगा ।15 मिनट बाद धो लें। 6 महीने तक रोज इस प्रक्रिया को दोहराएं।
  2. रोज तुलसी के रस और चूने के रस का मिश्रण प्रभावित हिस्से पर लगाए।
  3. तुलसी के पत्तों और नींबू का रस पान करने से भी सफेद दाग मिट जाते हैं।
  4. तुलसी के सेवन से सफेद दाग की वजह से चलने वाली खुजली और सूजन मे राहत मिलती है।
  5. छः से आठ महीनो तक रोजाना पांच- छः तुलसी की पत्तियां चबाएं।लाभ होगा।
  6. तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर चाय बना कर भी पी सकते हैं।
  7. तुलसी के सूखे पत्तों का पाउडर बना लें उसमें पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं। इसे सफेद दाग प्रभावित हिस्से पर लगाएं 15 मिनट बाद धो लें।
  8. इसके पत्ते चबाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और शरीर स्वस्थ होता है। तुलसी में कीटाणु नष्ट करने के गुण पाए जाते हैं।
  9. इसके पत्तों का रस, नींबू रस, कसौदी पत्र तीनों को समान मात्रा में लेकर उसे तांबे के बर्तन में रखकर चौबीस घंटे के लिए धूप में रखें। मिश्रण गाढ़ा हो जाए तब त्वचा पर लेप कर दे। इसे शरीर के किसी भी हिस्से पर लगा सकते हैं। इससे दाग और अन्य चर्म विकार भी दूर होते हैं।

सफेद दाग में बरते ये सावधानी:

  • धूप में जाने से बचें।
  • धूल मिट्टी और प्रदूषण से त्वचा का बचाव करें।
  • मछली या प्याज खाने के बाद दूध ना पिए।
  • खट्टी चीजों से परहेज करें।
  • खाने में नमक का इस्तेमाल कम करें।
  • दूध या दूध से बनी चीजें और दही या दही से बने खाद्य पदार्थों का साथ में सेवन ना करें।

आज के इस पोस्ट में हम लोगों ने तुलसी से सफेद दाग के इलाज के बारे में जाना। सफेद दाग से छुटकारा पाने के लिए तुलसी के अलावा अन्य घरेलू उपायों का प्रयोग भी आप कर सकते हैं। निराश ना हो। सफेद दाग का इलाज लंबा चलता है। बेहतर परिणाम के लिए घरेलू उपायों के साथ चिकित्सक की भी सलाह अवश्य लें।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment