पुरुषों में कमर दर्द के कारण एवं इलाज

पुरुषों में कमर दर्द के कारण: कमर दर्द की समस्या एक आम समस्या है। महिलाओं के बाद अब पुरुषों में भी यह तकलीफ देखने को मिलती है। 35 से 55 वर्ष की आयु के बीच के लोगो मे यह सामान्य समस्या है। कमर दर्द में इंसान ना अच्छे से बैठ पाता है, ना ही सो पाता है। जरा सा हिले- ढुले की कमर दर्द शुरू हो जाता है।

causes-of-back-pain-in-men

कई बार डॉक्टर की दवाई ले तब तक आराम और ध्यान न रखा जाए तो थोड़े ही दिनों में फिर से परेशान कर देता यह कमर दर्द।

ऐसे में क्या किया जाए जीवन शैली में बदलाव, ऑफिस में घंटों तक कंप्यूटर के सामने बैठना, मांसपेशियों में खिंचाव व ऐंठन आदि कई कारण जिम्मेदार है कमर दर्द के लिए।

पुरुषों में कमर दर्द के कारण:

गठिया(Gout)

शरीर के किसी भी हिस्से में जोड़ों में दर्द का प्रमुख कारण गठिया रोग ही है। रीड की हड्डी के आसपास की जगह/जोडो को संकुचित कर देता है जो दर्द का कारण है। सुबह उठते ही कमर की मांसपेशियों में संकुचन होना, गठिया रोग का लक्षण है।

रीढ की हड्डी का संक्रमण (Infection)

अगर रीढ़ की हड्डी में किसी प्रकार का संक्रमण या इन्फेक्शन हो तो भी कमर दर्द होता है। रीढ़ की हड्डी की बनावट सही ना हो या हड्डियों की सघनता में कमी भी कमर दर्द का कारण है। जिससे रीढ़ की हड्डी पर अत्याधिक दबाव पड़ता है और कमर में दर्द होता है।

रीढ़ की हड्डी का कैंसर(Cancer)

अगर रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर हो तो पूरा दबाव पीठ के निचले हिस्से पर पड़ता है और कमर दर्द मे इजाफा होता है।

मांसपेशियों में खिंचाव या ऐंठन या तनावपूर्ण लिगामेंट

एकदम उठने से या भारी वजन उठाने से रीढ़ की हड्डी के स्नायु बंधन और पीठ की मांसपेशियों में खिंचाव आ सकता है। पीठ पर दबाव डालने से मांसपेशियों में दर्द होता है।

पोस्चर(Posture) सही ना होना

एक ही अवस्था में बैठकर घंटों काम करना, ठीक से ना बैठना, ठीक से खड़े ना होने से भी कमर दर्द हो सकता है।

सही अवस्था में ना सोना भी कमर दर्द का कारण होता है। मोटे नरम गद्दे पर सोने से भी कमर दर्द हो सकता है।

अधिक सफर(Traveling) करना

सफर के समय शरीर रिलेक्स नहीं रहता है जिससे मांसपेशियों में तनाव बना रहता है और यही दबाव कमर दर्द की वजह बनता है।

आधुनिक जीवन शैली भी कमर दर्द की के लिए साइड इफेक्ट है।

चोट या बीमारी की वजह से दर्द

बुखार में कमर दर्द हो सकता है। किडनी स्टोन या गुर्दे में होने वाली होने वाली पथरी में भी असहनीय दर्द होता है।

टूटी हुई डिस्क (Slip disc)

डिस्क के अंदर का नरम पदार्थ टूटने से मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है और उससे भी दर्द होता है।

शारीरिक कमजोरी

शारीरिक कमजोरी भी दर्द का प्रमुख कारण है। मेटाबोलिक रसायनों की कमी भी कमर दर्द में सहायक है। अत्यधिक तनाव भी कमर दर्द का कारण है।हड्डियों का कमजोर होना, कैल्शियम की कमी होने से भी कमर और पीठ में दर्द हो सकता है।

व्यायाम के लिए समय ना निकालना।

मांसपेशियों में मोच आना आदि वजहो से पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है।

वैसे तो कई कारण जिम्मेदार है कमर दर्द के लिए। शारीरिक स्थिति में सुधार करके, शारीरिक अभ्यास करके कमर दर्द से बचा जा सकता है। हर व्यक्ति को इस से बचने के लिए अपनी आदतों में बदलाव करना आवश्यक है।

पुरुषों में कमर दर्द के इलाज

उपरोक्त दिए गए कारणों से हम अपने कमर दर्द का कारण जानेंगे और उसी हिसाब से अपना इलाज करेंगे।

लंबे समय तक न बैठना

लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठने से बचे। फिर भी यदि जरूरी है तो थोड़ी -थोड़ी देर में उठे। झटके से ना उठे, ना बैठे, कमर से झुकने की बजाए, घुटनों को मोड़ें। आगे झुक कर काम ना करें। अपनी रीढ़ की हड्डी को तकिए से सपोर्ट दे। फोन या लैपटॉप का इस्तेमाल हो सके तो कम करें। हर रोज 15 से 20 मिनट सूरज की धूप ले। काम के बीच-बीच में उठकर अपने हाथों और पैरों को स्ट्रैचिंग जरूर करें।

व्यायाम (Exercise)

कमर दर्द में आराम दिलाने वाले योग और एक्सरसाइज करें। लेकिन विशेषज्ञ की देखरेख में करें ।अगर हम तनाव में हो तो पीठ दर्द की समस्या बढ़ जाती है। व्यायाम और ध्यान करेंगे तो तनाव मुक्त रहेंगे ।मांसपेशियों को मजबूत करने वाले स्ट्रेचिंग व्यायाम जरूर करें। पेट का घेरा बढ़ने ना दे।

केट, कैमल पोज, मोबिलिटी एक्सरसाइज, स्टेबिलिटी एक्सरसाइज का समावेश फायदेमंद होता है। उष्ट्रासन, मकरासन, शलभासन, भुजंगासन, मेरुदंड की क्रियाएं करने से भी कमर दर्द में आराम मिलता है। रोज नियमित रूप से व्यायाम जरूर करें। रोज 20 मिनट तेज चलना भी कमर दर्द में फायदेमंद है, कम से कम हफ्ते में 5 दिन जरूर चलना चाहिए।

कमर दर्द यदि चोट लगने या इंफेक्शन की वजह से हो तो दवाइयां और आराम करने से भी कमर दर्द में राहत मिल जाती है। बहुत ही कम मामलों में ऑपरेशन की जरूरत पड़ती है।

मालिश (Massage)

कमर की हल्के हाथों से नियमित रूप से मालिश करें। आप घर पर ही मालिश तेल बना ले।

मालिश तेल बनाने की विधि:

  • एक चम्मच नारियल तेल
  • एक चम्मच सरसों तेल
  • एक चम्मच तिल का तेल
  • ले इसमें 9 से 10 कली लहसुन डालकर हल्की आंच पर गर्म कर ले। मसाज ऑयल तैयार है ।

👉नारियल के तेल में कपूर मिलाकर उबाल लें । ठंडा होने के बाद इस तेल से कमर पर मालिश करें। कम से कम हफ्ते में तीन बार मालिश करें।

👉कोई भी तेल से दर्द वाले स्थान पर मालिश करें। काफी फायदेमंद है। मालिश करने के कम से कम 30 मिनट बाद नहाए ताकि आपका शरीर तेल को अच्छी तरह से सोख ले।

👉स्लिप डिस्क की वजह से दर्द हो तो दवाइयां, आराम और रेडियो थेरेपी से दर्द कम हो जाता है और थोड़े दिनों के बाद एक्सरसाइज करने से लाभ मिलता है।

सही पोस्चर अपनाए

उठने,बैठने की सही तकनीक अपनाए। सोने की सही स्थिति(Posture technique)अपनाएं।

थोड़े सख्त गद्दे और आरामदायक पतले तकिए का इस्तेमाल करें।

गैस(Gastric)की समस्या

पुरुषों में गैस की समस्या आम बात है। यही समस्या कई बार पीठ और कमर दर्द का कारण बनती है। मौसम में होने वाली ठंडक मांसपेशियों में अकड़न की वजह बनती है और दर्द होता है।

एक्यूप्रेशर भी फायदेमंद है- हाथ की पहली उंगली के पीछे और रिंग फिंगर के पीछे दबाने से तुरंत आराम मिलता है।

सेकाई (Steam)

गर्म पानी से दर्द वाले हिस्से पर सेकाई करना बेहतरीन उपाय है।

आहार (Food)

भोजन में स्वाद की जगह पोष्टिक तत्वों को प्राथमिकता दें। कुछ घर पर , रसोई मे आसानी से उपलब्ध चीजों से भी हम कमर दर्द को कम कर सकते हैं।

हल्दी(Turmeric)

हल्दी आसानी से आपको शरीर के हर दर्द से छुटकारा दिला देती है ।दूध में हल्दी डालकर पीने से बहुत ही फायदा होता है।

एक चम्मच सोंठ पाउडर, एक गिलास दूध में सुबह और शाम पीने से बरसों पुराना कमर दर्द भी गायब हो जाता है।

अदरक (Ginger)

अदरक कमर दर्द से राहत दिलाने में पावरफुल औषधि है। आप अदरक का काढ़ा बनाएं 1 इंच अदरक का टुकड़ा, डेढ़ कप पानी में उबालें। जब पानी एक कप रह जाए तब इसे छान लें। इसमें एक चम्मच शहद मिला ले। हल्का गुनगुना हो तभी सेवन करें। लाभ मिलेगा।

लहसुन (Garlic)

रोजाना खाली पेट तीन से चार लहसुन की कली चबाने से और उसके बाद छोटा सा टुकड़ा दालचीनी का चबाए। लहसुन कमर दर्द के साथ-साथ कहीं पर भी, किसी भी भाग में दर्द हो छुटकारा दिलात है। गैस की वजह से होने वाले कमर दर्द मे लाभदायक।

सेंधा नमक(Rock salt)

सेंधा नमक में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो दर्द निवारक है। सेंधा नमक और पानी का गाढ़ा पेस्ट बनाएं और दर्द वाली जगह पर लगा ले। काफी आराम मिलेगा।

मेथी दाना(Fenugreek seeds)

  • एक चम्मच मेथी दाना पाउडर
  • एक चम्मच शहद
  • एक गिलास गर्म दूध में डालें और धीरे-धीरे इसका सेवन करें, फायदा होगा। ठंडी यों में बनने वाले मेथी गोंद के लड्डू भी कमर दर्द में बहुत ही मददगार होते हैं।

कैल्शियम(Calcium)

पुरुषों के शरीर में 45 के बाद कैल्शियम की कमी होने लगती है। जरूरी है आप खाने में कैल्शियम रिच फूड शामिल करें। कैल्शियम की सप्लीमेंट दवाएं भी शुरू कर सकते हैं।

वैसे तो ज्यादातर मामलों में 6 से 8 सप्ताह में कमर दर्द सही हो जाता है। पर यदि दर्द बढ़ता जा रहा है तो बिना देर किए चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले। बढा हुआ दर्द बीमारियों की दस्तक भी हो सकता है.

अल्सर, किडनी इन्फेक्शन, कैंसर या रीढ की हड्डी का इन्फेक्शन आदि। सभी तरह के मरीजों के लिए को अलग-अलग कारणों से कमर दर्द होता है वैसे ही सभी का इलाज भी अलग-अलग है। सभी प्रकार के कमरदर्द मे एक इलाज ही कारगर होगा, कहना मुश्किल है।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment